What is fibromyalgia? Every women should never ignore in hindi

fibromyalgia एक chronic condition हैं, जो पूरी body में थकान और दर्द का कारण बनता है यह condition men और women दोनों को प्रभावित करती है |लेकिन महिलाओं में fibromyalgia develop करने की अधिक सम्भावना होती है |

एक research से पता चला है कि women में men की तुलना में अधिक तीव्र दर्द की शिकायत होती है और इसके पीछे का कारण hormone, immune system और gene हो सकता है | fibromyalgia अधिकतर 20 से 30 दशक की महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है लेकिन शोधकर्ताओं को अभी ये sure नही है कि महिलाओं को ज्यादा जोखिम क्यों होता है |

read also:

Fibromyalgia के लक्षण (symptoms of fibromyalgia)

1. सिरदर्द (migraine)

गंभीर सिर दर्द fibromyalgia का ही लक्षण है लेकिन या स्पष्ट नही है कि इसके होने का क्या कारण है लेकिन यह condition chronic pain का दूसरा पहलु भी हो सकता है | आप medicine साथ ही कसरत और मसाज जैसे तरीकों से इस प्रॉब्लम से छुटकारा पा सकते हैं |

2. तनाव और अवसाद ( depression and stress)

fibromyalgia अवसान से जुड़ा हुआ होता है, जैसा कि आप जानते हैं कि महिलाओं में पुरूषों की तुलना में depression high level होता है इसलिए महिलाओं में fibromyalgia होने की ज्यादा सम्भवनाये होती है | इसके साथ जो अन्य स्थितियां होती है वो इस प्रकार है –

  • रात में नींद न आना
  • sleep apnia
  • थकान महसूस होना
  • ध्यान केन्द्रित न कर पाना
  • अस्वस्थ पैर सिंड्रोम

mood disorder होना , mood में परिवर्तन होना, इसे भी fibromyalgia से जोड़ा गया है | यह स्पष्ट नही है कि इसे क्यों जोड़ा गया है | लेकिन fibromyalgia से उदासी और चिंता जैसी condition भी होती है इसलिए इसे ignore नही किया जाना चाहिए |

 3. मासिक धर्म में तीव्र दर्द होना (strongest menstural pain)

मासिक धर्म की ऐठन हल्की या तेज़ हो सकती है, ये प्रत्येक महिलाओं पर depend करता है |लेकिन किसी महिला को fibromyalgia की समस्या है तो उस महिला की हालत सामान्य से अधिक दर्दनाक हो सकती है | और जो महिलायें menopause का सामना कर रही है, उनकी स्थिति और ख़राब हो सकती है क्योंकि menopause के बाद शरीर 40% कम estrogen पैदा करता है और यह estrogen serotonin को control करने का काम करता है,जो दर्द और मूड को control करता है | इसलिए ऐसी condition पर doctor से परामर्श ज़रूर लें |

4. थकान ( fatigue)

दर्द के साथ-साथ थकावट की समस्या होना | लेकिन डॉक्टर अभी भी sure नही है कि ये भी एक symptoms हो सकता है, क्योंकि कभी-कभी मरीज़ दर्द से पीड़ित होने के कारण अधिक थक जाता है या अधिक थकान होने की वजह से दर्द होता है | इसलिए डॉक्टर यह सिफारिश करते हैं की बेहतर नींद लें, और और थकान को दूर करने के लिए acupuncture या mindfulness practice की help लें |

5. मूत्राशय का दर्द और आंत्र की समस्या में वृद्धि( bladder pain and increasing bowel problem)

fibromyalgia कुछ अन्य समस्याएं जैसे bladder pain और irritable bowel syndrome (आंत्र सिंड्रोम) भी पैदा कर सकता है | इसके अंतर्गत निम्न symptoms दिखाई दे सकते हैं जैसे-

  • urination के दौरान दर्द
  • intercourse के दौरान दर्द
  • bladder पर दबाव
  • lower abdomen में दर्द

6. नींद की कमी( lack of sleep)

fibromyalgia के साथ नींद की समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है, जैसे अचानक नींद खुलना फिर दुबारा सोने की कोशिश में कठिनाई होना, पूरी रात नींद न आना या फिर दर्द होने की वजह से नींद की कमी होना |

7.अन्य लक्षण (other symptoms)

कुछ अन्य प्रकार के लक्षण है जो पुरुष और महिला दोनों में पाए जाता है

  • तापमान में परिवर्तन, तेज़ आवाज़ और चमकदार रौशनी से संवेदनशील होना
  • सिरदर्द होना
  • सिरदर्द के कारण nausea और vomiting होना
  • jaw में pain होना

Fibromyalgia का कारण (cause of fibromyalgia)

fibromyalgia के कारणों का अभी तक पता नही चल पाया है लेकिन कई researchers का मानना है कि कई factor इसमें शामिल हो सकते हैं जैसे –

  • संक्रमण या बीमारियाँ
  • तनावपूर्ण घटनाएं
  • car दुर्घटना
  • शरीर में एक ही जगह एक से अधिक बार चोट लगना
  • fibromyalgia का पारिवारिक इतिहास

Fibromyalgia का इलाज(fibromyalgia treatment)

fibromyalgia का treatment करना थोडा कठिन है, इसलिए ऐसे doctor से इलाज करवाएं जो पहले भी fibromyalgia का treatment कर चुके हों | इसके treatment के लिए एक team की आवश्यकता हो सकती है इस team में आपके doctor physical therapist और other doctor शामिल हो सकते हैं | और इसका उपचार में निम्न activity शामिल कर सकते हैं जैसे –

1. Sleep management

रात में अच्छी नींद आपके symptoms को कम करने में help कर सकती है यहाँ अच्छी नींद के लिए कुछ टिप्स है –

  • अपने सोने की habits को regular रखें | सही समय पर सोयें और सही समय पर उठे, even weekend और vacation में भी इन नियमों का पालन करें |
  • कैफीन और अल्कोहल को avoid करें |
  • दिन के समय सोने से बचें क्योंकि दिन में सोने से आपकी रात की नींद ख़राब हो सकती है | अगर आप दिन में बिना झपकी लिए नही रह सकते, तो सिर्फ 1 hour ही सोयें आप alarm set कर सकते हैं |
  • regular exercise करें , exercise से आपके नींद में improvement होता है लेकिन सोने से 3 घंटे पहले exercise avoid करें |
  • अपने bedroom को शांत और cool रखें |
  • सोने से पहले spicy food को avoid करें |

2. Physiological support

अगर आपको fibromyalgia है तो लगातार chronic condition के साथ रहना आपके लिए मुश्किल हो सकता है इसलिए आप किसी trained counsler से परामर्श लें जो आपको इस स्थिति से बाहर निकाले |

3 Pain management

fibromyalgia का treatment करने के लिए कई दवाओं को मंजूरी दी गई हैं, और अन्य दवाइयां तैयार की जा रही है आपके डॉक्टर भी दर्द से राहत दिलाने के लिए low dose antidepressant या अन्य दवाओं का सुझाव दे सकते हैं जो कुछ लक्षणों को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं |

4. Other treatment

कुछ वैकल्पिक उपचार भी आपकी सहायता कर सकते हैं लेकिन इस उपचार से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें –

  • acupressure(एक्यूप्रेशर)
  • herbs(जड़ी बूटी)
  • yoga(योग)
  • nutritional supplement( पोषक तत्वों की खुराक)
  • massage( मसाज)
  • physical therapy( भौतिक चिकित्सा)
  • breathing techniqueश्वास तकनीक)
  • Aroma therapy( अरोमा थेरेपी )
  • Relaxation exercise( विश्राम अभ्यास)
  • Acupuncture( एक्यूपंक्चर)
  • Biofeedback( ज्ञान सम्बन्धी उपचार)

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो इस पोस्ट को ज़रूर शेयर करें और लोगो को जागरूक करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *